डिग्लैमरस लुक से कोई प्रॉब्लम नहीं- आलिया भट्ट

I want to do more Deglamorized role in my Career- Alia Bhatt
बहुत कम समय में सफलता के शिखर को छू चुकी एक्ट्रेस आलिया भट्ट फिल्म ‘हाईवे’ के बाद एक बार फिर फिल्म ‘उड़ता पंजाब’ में डिग्लैमरस लुक में नज़र आ रही हैं। जहां बाकी एक्ट्रेस ग्लैमरस लुक से लोगों को अपना दीवाना बनाना चाहती हैं, वहीं आलिया भट्ट को डिग्लैमरस लुक से कोई प्रॉब्लम नहीं हैशुरुआती दिनों से सुर्खियों में रही फिल्म ‘उड़ता पंजाब’ में आलिया ने कैसे निभाया अपना किरदार और कैसे की तैयारी? जानने के लिए आलिया भट्ट से मिले पंकज पाण्डेय


फिल्म ‘उड़ता पंजाब’ के लिए आपने हामी क्यों भरी?

loading...

 

मैंने जब इस फिल्म की कहानी सुनी तो मुझे फिल्म का विषय बहुत ही रेलेवेंट लगा। हालांकि ड्रग्स को लेकर पहले भी कई फिल्में बनाई गई हैं, लेकिन इस फिल्म में ड्रग्स के प्रभाव से लेकर ड्रग्स लेने की लत, कारण आदि पर प्रकाश डाला गया है। ये फिल्म चार लोगों की चार अलग कहानी पेश करती है। वैसे ड्रग्स कई सालों से पूरी दुनिया में अपना अस्तित्व बनाए हुए है, लेकिन धीरे-धीरे इसे लेनेवालों की तादाद बढ़ रही है। आज 14 साल के बच्चे से लेकर 50 साल का इंसान ड्रग्स की गिरफ्त में है। ऐसे में इस विषय पर फिल्म बनाना काफी बड़ी बात है और ऐसी फिल्म को ना कहने का तो सवाल ही नहीं उठता

फिल्म में बिहारी लड़की का किरदार निभाना कितना मुश्किल था?

 

हां, फिल्म में मैंने बिहारी बोली भी है, लेकिन सच कहूं तो मेरे लिए बिहारी बोलना उतना मुश्किल नहीं था, जितना कि बिहारी बनना। दरअसल, मैं शहर की लड़की हूं। मेरे उठने-बैठने और चलने-फिरने का तरीका ये बता देता है कि मैं शहर की लड़की हूं, लेकिन गांव की लड़की की बॉडी लैंग्वेज अलग होती है। उनका मुंह हमेशा खुला रहता है। वो ना तो ज्यादा बातें करती हैं और ना ही फेशियल एक्सप्रेशन देती हैं।  इसलिए ये चीज़ें मेरे लिए काफी मुश्किलभरी रहीं। मुझे पंकज त्रिपाठी सर और अभिषेक चौबे ने बिहारी भाषा की ट्रैनिंग दी और तकरीबन डेढ़ महीने के वर्कशॉप के बाद मैं अपने रोल में फिट हो पाई

‘हाईवे’ और अब ‘उड़ता पंजाब’ आपको नहीं लगता आपका बिना मेकअप अवतार करियर के लिए ठीक नहीं?

 

नहीं, मुझे अपने बिना मेकअप वाले लुक से कोई प्रॉब्लम नहीं है। किसी फिल्म में  मैं बिना मेकअप के नज़र आती हूं, तो मैं ये नहीं सोचती कि अगली फिल्म में मैं और भी ज़्यादा मेकअप करूंगी। बतौर एक्टर मैं चाहती हूं कि मुझे इस तरह के और भी किरदार मिलते रहें ताकि मैं अपने अगले किरदार से अपने हालिया किरदार को मात दे सकूं। सच कहूं तो जब मैं ‘उड़ता पंजाब’ में अपने लुक के साथ रेडी हुई, तो अपने आपको पहचान नहीं पाई। मुझे ऐसा लग रहा था मैं बहुत बुरी लग रही हूं, लेकिन जब लोग मेरे लुक की तारीफ करने लगे तब मुझे काफी अच्छा महसूस होने लगा। पंकज सर ने जब मेरी तारीफ की तब मुझे सबसे ज्यादा खुशी हुई

I want to do more Deglamorized role in my Career- Alia Bhatt

आपको क्या लगता है फिल्म ‘उड़ता पंजाब’ दर्शकों पर सकारात्मक असर डालेगी या नकारात्मक?

फिल्म ‘उड़ता पंजाब’ ही नहीं, बल्कि कोई भी फिल्म जब दर्शकों पर सकारात्मक असर डालती है तो जीत का एहसास होता है। मैं तो यही चाहती हूं कि मेरे किरदार से हर कोई प्रेरित हो। फिल्म ‘हाईवे’ करने के बाद कई लड़कियां मेरे पास आईं और उन्होंने मुझसे उनके साथ हुए यौन उत्पीड़न का भी जिक्र किया था। इसके खिलाफ उन्होंने आवाज़ भी उठाई, मुझे ये देखकर काफी अच्छा लगा। अगर लोग ‘उड़ता पंजाब’ को लेकर प्रेरित होते हैं तो मुझे बेहद खुशी होगी। वैसे मुझे लगता है कि ये फिल्म देखने के बाद लोगों को काफी मदद मिलेगी, जिनका कोई अपना ड्रग्स लेता है, वो उन्हें आसानी से हैंडल कर पाएंगे

‘शानदार’ असफल रही, आपकी जब कोई फिल्म फ्लॉप होती है तो कैसा फील करती हैं?

 

फिल्म के फ्लॉप होने से दुख तो होता है, लेकिन ये भी सच है कि जब कोई फिल्म अच्छी होती है तो वो चलती है फिर इस बात से कोई लेना-देना नहीं होता कि फिल्म बड़े बैनर तले बनी थी या किसी छोटे ग्रुप ने बनाई थी। मैंने उस वक्त भी कहा था और आज भी कहूंगी कि मुझे फिल्म ‘शानदार’ की स्क्रिप्ट उस समय भी शानदार लगी थी और आज  भी लगती है, लेकिन ये बात और है कि उस फिल्म को शानदार ओपनिंग नहीं मिल पाई। कई बार ऐसा होता है जब हमें फिल्म की स्क्रिप्ट तो पसंद आती है, लेकिन वो फिल्म उस तरह बन नहीं पाती, वरना बुरी फिल्म तो कोई नहीं बनाना चाहता

आज के जेनेरशन को लेकर आप क्या सोचती हैं?

 

आज के यूथ बहुत फास्ट हैं। उन्हें कहीं आने-जाने की जरूरत नहीं है और ना ही वो कहीं जाना चाहते हैं। सारी चीज़ें वो एक क्लिक पर पाना चाहते हैं, फिर वो ऑनलाइन शॉपिंग हो या कुछ और। आज के यूथ प्रोग्रेस तो काफी कर रहे हैं, लेकिन किसी की रिस्पॉन्सिबिलिटी नहीं लेना चाहते, खासकर अपने फैमली की। अगर वो अपने साथ-साथ अपने परिवार की जिम्मेदारी भी लेने लगे तो वो और भी अच्छे साबित हो सकते हैं। 

 

 
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *