मैंने फिल्म ‘अक्टूबर’ सिर्फ बच्चों के लिए की है – वरुण धवन

I have done film October only for Children says Varun Dhawan
फिल्म ‘जुड़वा 2’ की सफलता के बाद अब एक्टर वरुण धवन फिल्म ‘अक्टूबर’ में नजर आएंगे जो कि 13 अप्रैल 2018 को सिनेमाघरों में रिलीज होगी। पिछले दिनों फिल्म से जुड़े एक प्रमोशनल इंटरव्यू में हमने वरुण धवन से मुलाकात की और उनसे कई सवालात किए। पेश हैं हमारी बातचीत के कुछ अंश।

loading...

पंकज पाण्डेय
 

आप फिल्म ‘अक्टूबर’ का ज्यादा प्रमोशन नहीं कर रहे हैं, इसकी क्या वजह है ?

हां, यह आपने सही कहा कि मैं आमतौर पर अपनी फिल्मों का जितना प्रमोशन करता हूं उतना मैंने अक्टूबर फिल्म का नहीं किया है क्योंकि मुझे शूजित दा ने रोका हुआ है। शूजित दा को लगता है कि अगर मैं फिल्म का ज्यादा प्रमोशन करूंगा तो मैं फिल्म के प्लाट के बारे में बोल दूंगा इसलिए उन्होंने मुझे सिर्फ फिल्म को प्रमोट करने के लिए पांच दिन दिया है। यही कारण है कि अब जब फिल्म रिलीज के लिए तैयार है तो मैंने फिल्म का प्रमोशन करना शुरू कर दिया है।

फिल्म में आपका जो किरदार है वो आपकी पिछली फिल्मों की अपेक्षा अलग है तो आपने इस किरदार को समझने के लिए कितनी मेहनत की ?

जब मैंने इस फिल्म की शूटिंग शुरू की थी, उस वक्त मैंने जुड़वा 2 फिल्म पूरी की थी और अचानक से मुझे ऐसा किरदार निभाना था जो कि मैंने पहले नहीं किया है इसलिए मैं काफी डरा हुआ था। मैंने शूजित दा से अपने किरदार को लेकर काफी बातचीत की और ट्रेनिंग भी ली। शूजित दा ने मुझे कहा था कि मुझे इस फिल्म में एक्टिंग नहीं करनी है बस अपने डायलाग को काफी स्लो बोलना है। उन्होंने कहा कि बिलकुल भी एक्टिंग मत करना और देखना जब लोग फिल्म देखेंगे तो कहेंगे कि वरुण ने क्या एक्टिंग की है लेकिन तुम्हें पता होगा कि तुमने कुछ किया ही नहीं है। फिल्म में मेरे किरदार का नाम दानिश है जो कि एक होटल मैनेजमेंट ट्रेनी है और वो काफी एम्बिशयस लड़का है।

फिल्म में आप जिस तरह बोल रहे हैं वो बॉडी लैंग्वेज आपने कहां से पकड़ी ?

यह बॉडी लैंग्वेज मैंने एक दिल्ली के लड़के को देखकर पकड़ी है। उसका नाम अभिलाष है और वो पंद्रह साल का है। उसकी लंबाई काफी कम है और मैं उसे दिल्ली के एक होटल में मिला था, वो उस होटल में मैनेजमेंट ट्रेनी था। वो मुझे बोलता था कि उसे उसके दोस्त उसकी लंबाई को लेकर काफी चिढ़ाते हैं और उसके मां-बाप को भी उससे कोई उम्मीद नहीं है। मैंने जब उसे देखा था तो उस वक्त ही मैंने सोच लिया था कि इसे मैं शूजित दा से जरूर मिलवाऊंगा और जब शूजित दा उससे मिले तो उन्होंने मुझे उसकी बॉडी लैंग्वेज को कॉपी करने को कहा।

आपने जब फिल्म ‘बदलापुर’ की थी, उस वक्त कहा जा रहा था कि आप अपनी इमेज चेंज कर रहे हैं तो क्या अब ‘अक्टूबर’ भी आपने अपनी इमेज चेंज करने के लिए की ?

जी, ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। मैं कोई भी फिल्म इमेज चेंज करने के लिए नहीं करता बल्कि इसलिए करता हूं ताकि मैं हर तरह की फ़िल्में कर सकूं। आपको सच कहूं तो मैंने यह फिल्म सिर्फ बच्चों के लिए की है क्योंकि लोग मुझे कहते हैं कि मैं बद्रीनाथ की दुल्हनियां और जुड़वा 2 जैसी फ़िल्में करके बच्चों को क्या सीखा रहा हूं इसलिए मैंने सोचा कि मैं फिल्म अक्टूबर करता हूं और जो भी बच्चे मेरे फैंस हैं उन्हें इस फिल्म के जरिए एक सच्ची दुनिया दिखाऊं। मैं यह दावे के साथ कह सकता हूं कि यह उस तरह की फिल्म नहीं है जिसे दर्शक एक दिन में भूल जाएंगे बल्कि यह उस तरह की फिल्म है जिसे दर्शक कम से कम तीन या चार दिन याद रखेंगे।


फिल्म के डायरेक्टर शूजित सरकार के बारे में क्या कहेंगे ?

शूजित दा एक जीनियस इंसान हैं और काफी टैलेंटेड भी हैं। मैं उनके काम का काफी पहले से दीवाना हूं, मुझे उनकी फिल्म विक्की डोनर काफी पसंद आई थी। विक्की डोनर के बाद उन्होंने अचानक से मद्रास कैफ़े बनाई तो मैंने सोचा की यार इस इंसान के दिमाग में चल क्या रहा है। फिर उसके बाद पीकू आई और फिर पिंक तब मुझे पता चल गया था कि यह इंसान एक वर्सटाइल डायरेक्टर है। मैंने शूजित दा के साथ काम इसलिए किया ताकि मैं उनका दिमाग समझ सकूं। शूजित दा के साथ काम करके काफी मजा आया क्योंकि वो एक रिलैक्स और स्ट्रेस फ्री इंसान हैं।

‘अक्टूबर’ के बाद आपकी फिल्म ‘सुई धागा’ है, उस फिल्म के बारे में कुछ बताए ?

फिल्म सुई धागा में मेरे किरदार का नाम मौजी है जो कि पेशे से एक टेलर है। फिल्म की शूटिंग लगभग 90 प्रतिशत पूरी हो चुकी है। फिल्म की शूटिंग भोपाल, चंदेरी और दिल्ली में हुई है और इस फिल्म में मैं पहली बार अनुष्का शर्मा के साथ काम कर रहा हूं और उनके साथ काम करके काफी मजा आया।
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *