हेमंत सावंत की बाघ जीवन शैली तस्वीरों की प्रदर्शनी का हुआ उद्घाटन

बाघ जीवन शैली पर आधारित फोटोग्राफर हेमंत सावंत की तस्वीरों की प्रदर्शनी का उद्घाटन अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव श्री. मुकुल वासनिक के हाथों से जहांगीर आर्ट्स गैलरी में बड़े उत्साह के साथ हुआ।

इस अवसर पर श्री काकूभाई कोठारी, प्रसिद्ध वन्यजीव फोटोग्राफर, साथ ही श्री सुरेश शेट्टी, पूर्व स्वास्थ्य मंत्री, महाराष्ट्र राज्य और वन्यजीव फोटोग्राफर, श्री गिरीश मिस्त्री, शारी प्रोफेशनल फोटोग्राफी अकादमी के निर्देशक और प्रसिद्ध सुलेखक अच्युत पालव उपस्थित थे।

इस समय श्री. मुकुल वासनिक ने कहा, हेमंत सावंत ने अपने कैमरे में सबसे खूबसूरत जानवर को कैद किया है। हेमंत ने बुद्धिमानी से तकनीक का इस्तेमाल किया है और खूबसूरत तस्वीरें ली हैं। यह प्रदर्शनी भारत में वन्यजीवों के संरक्षण की दिशा में मदद करेगी। इस वन्यजीव फोटोग्राफी प्रदर्शनी के माध्यम से, जनता और बच्चे भारत में वन्यजीव संरक्षण के बारे में अधिक जागरूक हो सकते हैं। बड़ी संख्या में बच्चे भारत के वन्यजीवों के संरक्षण के प्रति अधिक जागरूक होंगे। बच्चों में जागरुकी लाकर हम भारत में वन्यजीवों के लिए बेहतर जीवन देख सकते हैं।

इस मौके पर फोटोग्राफर हेमंत सावंत ने कहा, मैंने अपने सपनों में कभी नहीं सोचा था कि मैं यहां आपके सामने एक आवेशपूर्ण वन्यजीव फोटोग्राफर के रूप में खड़ा रहूँगा। 2016 में, मेरी बेटी सलोनी मेरे जीवन का टर्निंग पॉइंट बन गई और उसने मुझे वन्यजीव फोटोग्राफी की दुनिया में खींच लिया।

इस समय उन्होंने फोटोग्राफी के सफर में सहयोग के लिए अपनी पत्नी चित्रा और बेटियों को धन्यवाद दिया। उन्होंने कोरोना महामारी का खतरा रहते हुए भी उद्घाटन मे उपस्थित रेहनेवाले दर्शकोको धन्यवाद दिया और उन्होंने कहा कि अगर मेरा यह छोटा सा प्रयास आने वाली पीढ़ियों को मार्गदर्शन करेगा, तो मैं समझूंगा कि मेरा काम सार्थक हुआ।

फोटोग्राफर हेमंत सावंत पिछले कई सालों से ‘जंगल से जंगल’ का सफर तय कर रहे हैं। कान्हा, बांधवगढ़, पन्हा, मेलघाट, ताडोबा, पेंच, रणथंभौर, जिम कॉर्बेट के जंगलों में बाघों की जीवन शैली का अध्ययन करते समय उन्होंने बाघों के महत्वपूर्ण पलों को अपने कैमरे में कैद किया है।
उन्होंने अपने कैमरे में कई चीजें कैद की हैं जैसे एक खुश और आलसी बाघ, आक्रामक और फुर्तीला बाघ, एक ऐंठदार चाल वाला बाघ, दोस्तों के साथ पानी से बाहर भागते बाघ, और एक मादा बाघ अपने शावकों की देखभाल कर रही है।

इस प्रदर्शनी में लगभग 50 तस्वीरें प्रस्तुत की गई हैं और उनके अनुभव की वृत्तचित्र वीडियो फिल्म को जनता के लिए प्रस्तुत किया गया है। यह प्रदर्शनी 23 से 29 नवंबर 2021 तक सुबह 11 बजे से शाम 7 बजे तक जनता के लिए खुली है। हेमंत सावंत ने लोगों से ‘टाइगर शो’ का लुत्फ उठाने की अपील की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *